Adhai Din Ka Jhopra Detail in Hindi – History, Timing

क्या आप Adhai Din Ka Jhonpra से जुडी जानकारी जैसे history, timing, architecture खोज रहे हैं ? यह अजमेर शहर में हैं, जानिए इसके पीछे की कहानी ले बारे में | यह राजस्थान के अजमेर शहर में स्थित एक मस्जिद है | 1192 CE में, Muhammad Ghori के आदेश पर, Qutb-ud-Din-Aibak द्वारा इसक निर्माण कार्य सुरु किया गया था | जो की 1199 CE में बन कर तैयार हुआ, और 1213 CE में दिल्ली सल्तनत के शासक Iltutmish के द्वारा इसे सुशोभित किया गया | मस्जिद का निर्माण संस्कृत महाविद्यालय के अवशेषों पर किया गया था, जिसमें नष्ट हुए हिंदू और जैन मंदिरों की सामग्री थी | यह भारत में सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है, और अजमेर में सबसे पुराना जीवित स्मारक भी है |

Adhai Din Ka Jhopra history in Hindi



History / इतिहास

मस्जिद को मूल रूप से एक विद्वान चौधरी वंश के द्वारा स्थापित किया गया था, यह एक संस्कृत कॉलेज की इमारत थी | मूल रूप से यह इमारत चौकोर आकार की थी, और प्रत्येक कोने पर टॉवर-छतरी जैसे स्तंभ थी | इस परिसर में सरस्वती को समर्पित एक मंदिर जो की पश्चिम की ओर में स्थित था | 11 वीं सदी में site से पाए गए कुछ अवशेषों के अनुसार यह अनुमान लगाया गया है कि इस इमारत का निर्माण 1153 CE. से पहले किया गया था |

आधुनिक भवन का निर्माण हिंदू और जैन दोनों की सुविधाओं को दिखाते हुए बनाया गया है | KDL Khan के अनुसार भवन का निर्माण करने के दौरान सामग्री को हिंदू और जैन मंदिरों से लिया गया था | Caterina Mercone Maxwell और Marijke Rijsberman के अनुसार sanskrit कॉलेज जैन संस्थान था | ASI Director-General Alexander Cunningham के द्वारा यह अनुमान लगाया गया है की इमारत में उपयोग किए जाने वाले खंभे को संभवत: 20-30 ध्वस्त हुए हिंदू मंदिरों से लिया गया था, जिसमें कुल कम से कम 700 स्तंभ खड़े किए गए थे | स्थानीय जैन परंपरा के अनुसार, भवन 660 CE में सेठ विरमदेव काल द्वारा मूलतः पंच कल्याणका का जश्न मनाने के लिए जैन मंदिर के रूप में बनाया गया था |

Address:

Located at: Ander Kote Road,
City: Ajmer
State: Rajasthan
Pin Code: 305001

Conversion to mosque

12 वीं शताब्दी के अंत में मूल इमारत को अपूर्ण रूप से नष्ट कर दिया गया और दिल्ली के Qutb-ud-Din-Aibak द्वारा मस्जिद में परिवर्तित कर दिया गया । स्थानीय कथा के अनुसार Tarain की दूसरी लड़ाई में Vigraharaja’s के भतीजे Prithviraja III को हराने के बाद जब Muhammad Ghori अजमेर से गुजर रहे थे तबै उन्होंने शानदार मंदिर को देखा | उस मंदिर को देख कर मोहम्मद गौरी ने अपने गुलाम general कुतुब-उद-दीन-एबक को मंदिर को ध्वस्त एक मस्जिद का निर्माण करने के आदेश दिया और वो भी 60 घंटे के अंदर यानि की ढाई दिनों में | कारीगरों ने 60 घंटे के समय में एक पूरी मस्जिद का निर्माण तो नहीं कर पाए, लेकिन एक ईंट की परदी दीवार का निर्माण किया, जहां घोरी प्रार्थना की पेशकश कर सकते थे | सदी के अंत तक, यह एक पूर्ण मस्जिद बन कर तैयार हो गया था |



Adhai Din Ka Jhopra architecture

मस्जिद के केंद्रीय में mihrab एक शिलालेख है जो मस्जिद के निर्माण की अंतिम तारीख को दर्शाता है । जो की Jumada II 595 AH (April 1199 CE) है | इससे यह पता चलता है की भारत में निर्मित सभी मस्जिदों में सबसे पुराना मस्जिद Adhai Din Ka Jhonpra है और यह दिल्ली के Mamluks के द्वारा बनाई गई यह दूसरी मस्जिद है | एक अन्य शिलालेख Dhu al-Hijjah 596 AH के अनुसार यह पता चलता है की इस मस्जिद का निर्माण Abu Bakr ibn Ahmed Khalu Al-Hirawi की देख रेख में हुआ था | मस्जिद के पूर्ण रूप से निर्माण होने के बाद कुतुब-उद-दीन-ऐबक के उत्तराधिकारी Iltutmish, ने 1213 CE  में मस्जिद को सुशोभित किया |

History behind the Name :

मस्जिद का नाम अढ़ाई दिन का झोंपड़ा है जिसका अर्थ है कि ढाई दिन में सफाया होना । मस्जिद के नाम से संबंधित कई चीजें हैं | legend के अनुसार, इंसान का जीवन पृथ्वी पर ढाई दिन का होता है |  इतिहासकारों का कहना है कि प्राचीन काल में साढ़े से डेढ़ दिनों तक उचित समय का आयोजन किया जाता था | अन्य मान्यताओं का कहना है कि मराठा युग के दौरान, फकीर यहाँ उर्स मनाने आते थे, जिससे मस्जिद को जोंपरा कहा जाने लगा | चुकी उर्स ढाई दिनों तक मनाया जाता है, इसीलिए मस्जिद का नाम अढ़ाई दिन का झोंपड़ा (Adhai Din Ka Jhonpra) रखा गया |

How To Reach :

By Air: अजमेर से निकटतम हवाई अड्डा, राजस्थान की राजधानी जयपुर है । वहां से, आप स्थानीय कैब या निजी टैक्सियों का लाभ उठा सकते हैं, जो आपको अजमेर तक ले जाएंगे।

By Train : अजमेर भारत के सभी प्रमुख शहरों से train से जुड़ा हुआ है । station से Adhai Din Ka Jhonpra 3 कम दूर है | आप Adhai Din Ka Jhonpra तक जाने के लिए नीजी taxi या cab को किराए पर ले सकते हैं |

By Road: अजमेर अच्छी तरह से दिल्ली, आगरा और राजस्थान के अन्य प्रमुख शहरों से सड़कों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है | इसलिए किराए पर टैक्सी या निजी वाहन से अढ़ाई दिन का झोंपड़ा मस्जिद आसानी से पंहुचा जा सकता है |

Timing :  12:00 AM to 1:00 PM

Nearest city:

  • Distance from Meerut – 463 km
  • Distance from Nagpur – 979 km
  • Distance from Jaipur – 135 km
  • Distance from Agra – 375 km
  • Distance from Delhi – 404 km
  • Distance from Jodhpur – 209 km

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *